Physical Address

Kotra road Raigharh (C.G.) 496001

घुटनो का दर्द को समझने की पूरी गाइड हिन्दी में। Knee Pain In Hindi.

Knee Pain In Hindi.
Knee Pain In Hindi.
Contents Hide
3 2.घुटनों में दर्द होने के कारण।

आइए जानते हैं चोट, गठिया और ऑस्टियोआर्थराइटिस से घुटनों के दर्द और इसके कारण, लक्षण और घरेलू उपचार के बारे में। Ghutno Ka Dard In Hindi.

घुटने का दर्द एक आम बीमारी है जो ज्यादातर लोग अपने जीवन में कभी न कभी अनुभव करते हैं। घुटने का दर्द कई चीजों के कारण हो सकता है, जिसमें चोट, गठिया और पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस शामिल हैं।

घुटने शरीर के महत्त्वपूर्ण जोड़ों में से एक है जो बिना किसी परेशानी के उठने, बैठने, चलने या दैनिक जीवन के कई अन्य कार्यों को आसानी से करने में मदद करता है। जीवन की गुणवत्ता में एक स्वस्थ घुटने की विशेष भूमिका होती है।

यह किसी भी उम्र के लोगों और शारीरिक गतिविधि के सभी विभिन्न स्तरों के लोगों को हो सकता है। घुटने का दर्द कुछ समय के लिए या लंबे समय तक हो सकता है, जिसका अर्थ है कि आपके घुटने की स्थिति के आधार पर यह कहा जा सकता है कि घुटने का दर्द अस्थायी है या घुटनो का दर्द जीवन भर के लिए है।

Knee Pain In Hindi. में हम घुटने के दर्द के कारण, लक्षण और इसके घरेलू उपचार के बारे में विस्तार से जानने की कोशिश करेंगे।

1.घुटनो का दर्द आपके स्वास्थ्य को कैसे प्रभावित करता है?

घुटने का दर्द एक सामान्य स्वास्थ्य समस्या है जो व्यक्ति के शारीरिक, मानसिक और सामाजिक कल्याण को प्रभावित करती है। घुटने का दर्द एक सामान्य स्थिति है जो किसी भी उम्र के लोगों को प्रभावित कर सकती है।

यह चोट, अति प्रयोग और गठिया सहित कई कारकों के कारण होता है। घुटने का जोड़ चार हड्डियों से बनी एक जटिल संरचना है: फीमर, टिबिया, पटेला और नीकैप। फीमर और टिबिया घुटने के जोड़ पर पटेला और स्नायुबंधन द्वारा जुड़े हुए हैं।

नीकैप जोड़ के सामने के हिस्से की सुरक्षा करता है, जबकि यह आपके पैर को झुकने और सीधा करने के साथ आसानी से चलने देता है। घुटने का दर्द चोट या अति प्रयोग जैसी कई चीजों के कारण हो सकता है लेकिन यह गठिया से सम्बंधित या गाउट या स्यूडोगाउट जैसी चिकित्सा स्थिति के कारण भी हो सकता है।

यदि आप 6 सप्ताह से अधिक समय से घुटने के दर्द का अनुभव कर रहे हैं तो आपको जांच और निदान के लिए अपने डॉक्टर से मिलना चाहिए।

2.घुटनों में दर्द होने के कारण।

Knee Pain In Hindi.
Knee Pain In Hindi.

क्या आप जानते हैं कि घुटने में दर्द क्यों होता है?

घुटने का दर्द कई सामान्य और गंभीर स्थितियों और स्थितियों के कारण हो सकता है, साथ ही यह भी माना जाना चाहिए कि कई मामलों में यह बीमारियों के कारण भी हो सकता है। घुटने का दर्द निम्नलिखित कारणों से हो सकता है, आइए नीचे जाकर इसे समझते हैं।

i) आर्थराइटिस। Arthritis In Hindi.

गठिया (आर्थराइटिस) जोड़ों की सूजन है, जो दर्द और सूजन का कारण बनती है। गठिया कई प्रकार के होते हैं, जैसे ऑस्टियोआर्थराइटिस और रुमेटीइड गठिया। आर्थराइटिस के प्रकार के आधार पर लक्षण भिन्न होते हैं।

ऑस्टियोआर्थराइटिस :-  यह मुख्य रूप से वजन वहन करने वाले जोड़ों जैसे कूल्हों, घुटनों और टखनों को प्रभावित करता है। इस प्रकार का गठिया उम्र या चोट के कारण संयुक्त उपास्थि पर टूट-फूट के कारण होता है। यह स्थिति उम्र, वजन, आनुवंशिकी और पिछली चोटों सहित कई कारकों के कारण हो सकती है। 50 साल से अधिक उम्र के लोगों में ऑस्टियोआर्थराइटिस अधिक आम है। यह पुरुषों की तुलना में महिलाओं में भी अधिक आम है।

ऑस्टियोआर्थराइटिस के लक्षणों में शामिल हैं :-  जोड़ों में दर्द, विशेष रूप से उपयोग की अवधि के बाद या मामूली चोट के बाद;-संयुक्त के आसपास सूजन और कोमलता;-आंदोलन के दौरान जोड़ों में कठोरता;-संयुक्त या जोड़ों के समूह में गति की सीमा का नुकसान;-झुकने, मुड़ने या बैठने जैसी गतिविधियों को करने की सीमित क्षमता।

रुमेटीइड आर्थराइटिस :-  रुमेटीइड गठिया एक ऑटोइम्यून बीमारी है जो जोड़ों, त्वचा, आंखों और आंतरिक अंगों सहित शरीर के सभी हिस्सों को प्रभावित करती है। यह आपके शरीर के किसी भी जोड़ में दर्द और जकड़न पैदा कर सकता है लेकिन आमतौर पर यह आपके हाथों या पैरों में शुरू होता है।

लक्षणों में शामिल हो सकते हैं : –  दर्दनाक या कठोर जोड़-सूजी हुई उंगलियाँ या पैर की उंगलियाँ-सुबह अकड़न-जोड़ों को नुकसान-त्वचा में लालिमा या दाने जैसे परिवर्तन।

ii) बर्साइटिस। Bursitis In Hindi.

बर्साइटिस बर्सा की सूजन है, एक तरल पदार्थ से भरी थैली जो एक जोड़ में हड्डियों, मांसपेशियों और टेंडन के बीच स्थित होती है। बर्साइटिस अक्सर जोड़ के अति प्रयोग के कारण होता है।

यह तब हो सकता है जब आप बहुत अधिक भारी भारोत्तोलन या दोहराव वाली हरकतें करते हैं। यह तब भी हो सकता है जब आपको गठिया या गठिया जैसी अंतर्निहित स्थिति हो।

बर्सा थैली को सीधे चोट लगने से भी बर्साइटिस हो सकता है। यह तब हो सकता है जब आप अपनी कोहनी या घुटने पर गिरते हैं और इसे किसी सख्त चीज (जैसे कर्ब) पर मारते हैं।

iii) बेकर्स सिस्ट। Baker’ s Cyst In Hindi.

बेकर्स सिस्ट एक तरल पदार्थ से भरा सिस्ट होता है जो आपके घुटने के पीछे एक उभार और जकड़न की भावना पैदा करता है। यह तब बनता है जब जोड़ के आसपास की श्लेष झिल्ली तरल पदार्थ से सूज जाती है।

यह चोट या संक्रमण के कारण हो सकता है, लेकिन यह अधिक बार एक ऑटोइम्यून बीमारी के कारण होता है। जब आप पूरी तरह से स्वस्थ होते हैं तो इससे कोई दर्द या परेशानी नहीं होती है।

एक बेकर की पुटी को कभी-कभी ऑस्टियोकार्टिलाजिनस एक्सोस्टोसिस कहा जाता है और यह उन लोगों में अधिक आम है जो मोटे हैं या उच्च रक्तचाप है। बेकर की पुटी को आमतौर पर घुटने के पीछे एक गांठ के रूप में भी परिभाषित किया जाता है।

यह सिस्ट आमतौर पर आपके घुटने के जोड़ में समस्या पैदा करने का परिणाम होता है, जैसे गठिया या कार्टिलेज फटना। दोनों स्थितियाँ आपके घुटने को बहुत अधिक तरल पदार्थ का उत्पादन करने का कारण बन सकती हैं, जिससे बेकर की पुटी हो सकती है।

iv) मेनिस्कस टियर। Meniscus Tear In Hindi.

घुटने शरीर के महत्त्वपूर्ण जोड़ों में से एक है जो दैनिक जीवन के सभी कार्यों को आसानी से करने में मदद करता है जिसमें घुटने की भूमिका भी शामिल है।

मेनिस्कस टियर एक गंभीर समस्या है जो गंभीर दर्द और कई समस्याओं का कारण बन सकती है। मेनिस्कस टू मेनिस्कस टियर एक चिकित्सा शब्द है जिसका अर्थ है कार्टिलेज का फटना या टूटना, जो एक प्रकार का ऊतक है जो हड्डियों के बीच एक कुशन के रूप में कार्य करता है।

आपके लिए यह महत्त्वपूर्ण है कि आप अपने मेनिस्कस टियर की उचित देखभाल करें ताकि यह अधिक गंभीर समस्या में न बदल जाए।

मेनिस्कस टियर एक ऐसी स्थिति है जिसमें घुटने के जोड़ के मेनिस्कस में चोट या आघात होता है। इससे गंभीर दर्द, सूजन और चलने में कठिनाई हो सकती है।

इस स्थिति के कई कारण होते हैं जैसे :-  घुटने का अत्यधिक झुकना या झुकना, ऊंचाई से गिरना आदि। चलने, दौड़ने, ऊंचाई से कूदने या दैनिक जीवन की अन्य गतिविधियों को करने के दौरान घुटने की चोट भी उनमें से एक है।

v) गाउट। Gout In Hindi.

गाउट एक प्रकार का गठिया है जो रक्त में यूरिक एसिड के उच्च स्तर के कारण होता है। यूरिक एसिड शरीर में एक अपशिष्ट उत्पाद है जो क्रिस्टल बना सकता है, जिसे टोफी कहा जाता है।

ये टोफी जोड़ों में जमा हो सकती है और सूजन और दर्द का कारण बन सकती है। गठिया के कुछ लक्षणों में जोड़ों के क्षेत्र में सूजन, गर्मी, लालिमा, जकड़न और दर्द शामिल हैं।

गाउट का दौरा काफी गंभीर होने पर बुखार या ठंड लगना भी हो सकता है। गाउट एक प्रकार का गठिया है जो जोड़ों में दर्द और सूजन का कारण बनता है। यह प्यूरीन में उच्च आहार, शराब की खपत, मोटापा, या पारिवारिक इतिहास के कारण हो सकता है।

गठिया के अधिकांश मामले पैर की अंगुली के मेटाटार्सल-फैलेंजियल बेस को प्रभावित करते हैं। लगभग आधे मामले इसके कारण होते हैं, जिसे पोडाग्रा कहा जाता है। लेकिन यह गुर्दे की पथरी, यूरेट नेफ्रोपैथी या टोफी के रूप में भी आ सकता है।

यह रोग रक्त में यूरिक एसिड की मात्रा में वृद्धि के कारण होता है। यूरिक एसिड की बढ़ी हुई मात्रा जोड़ों, टेंडन और आसपास के ऊतकों पर क्रिस्टल के रूप में जमा हो जाती है।

vi) टेंडनाइटिस। Tendonitis In Hindi.

टेंडोनाइटिस एक सामान्य स्थिति है जो टेंडन में दर्द का कारण बनती है और अति प्रयोग, चोट या संक्रमण के कारण हो सकती है। टेंडोनाइटिस का सबसे आम लक्षण प्रभावित क्षेत्र में दर्द है।

जब आप कण्डरा को छूते हैं या दबाते हैं, तो यह कोमल और सूजा हुआ महसूस हो सकता है। जकड़न और पकड़ने या चिपके रहने की भावना के कारण आपके जोड़ को सुचारू रूप से हिलाना भी मुश्किल हो सकता है।

टेंडोनाइटिस का दर्द आमतौर पर आराम करने से ठीक हो जाता है लेकिन सूजन पूरी तरह से कम होने में हफ्तों से लेकर महीनों तक का समय लग सकता है। टेंडोनाइटिस का सबसे आम कारण अति प्रयोग है।

टेंडोनाइटिस खेल, दोहराए जाने वाले मुमेंट या यहाँ तक कि बहुत लंबे समय तक कीबोर्ड पर टाइप करने के कारण हो सकता है। टेंडोनाइटिस का इलाज आराम और भौतिक चिकित्सा से किया जा सकता है, लेकिन अगर इलाज के छह महीने के भीतर यह ठीक नहीं होता है तो इसे सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है।

vii) हड्डियों का कैंसर। Bone Cancer In Hindi.

हड्डी का कैंसर एक ऐसी बीमारी है जिसमें हड्डी से एक घातक ट्यूमर बढ़ता है। यह प्राथमिक या माध्यमिक हो सकता है। प्राथमिक हड्डी का कैंसर दुर्लभ है और यह हड्डी में शुरू होता है, जबकि माध्यमिक हड्डी का कैंसर कहीं और शुरू होता है और हड्डियों में फैलता है।

हड्डी के कैंसर का सबसे आम लक्षण हड्डियों में दर्द है। अन्य लक्षणों में सूजन, कोमलता, विकृति, स्पर्श करने की कोमलता, बुखार, वजन घटाने और थकान शामिल हो सकते हैं।

हड्डी के कैंसर को या तो सौम्य या घातक ट्यूमर के रूप में वर्गीकृत किया जाता है।  सौम्य ट्यूमर शरीर के अन्य भागों में नहीं फैलता है जबकि घातक ट्यूमर शरीर के अन्य भागों में फैल सकता है और जीवन के लिए खतरा बन सकता है।

viii) लिगामेंट टूटना। Ligament Rupture In Hindi.

जब एक लिगामेंट घायल हो जाता है, तो यह फटा या टूट सकता है। इससे जोड़ अपनी स्थिरता और गति की सीमा खो देता है। लिगामेंट में सूजन हो सकती है। लिगामेंट रेशेदार ऊतक है जो हड्डियों को जोड़ता है और स्थिर करता है।

जोड़ पर अचानक घुमा, खिंचाव, या जबरदस्ती प्रभाव से लिगामेंट घायल हो सकता है या फट सकता है। दरअसल, लिगामेंट्स रस्सी जैसे रेशों के ऐसे समूह होते हैं, जो हड्डियों को आपस में जोड़ते हैं और उन्हें स्थिरता प्रदान करते हैं।

इससे जोड़ सुचारु रूप से काम करते हैं। घुटने का जोड़ एक हड्डी से बना होता है जिसे घुटने के ऊपर फीमर और नीचे टिबिया कहा जाता है। बीच में टायर की तरह दो मेनिस्कस (एक तरह का कुशन) होते हैं।

दो रस्सी जैसे स्नायुबंधन (एंटीरियर क्रूसिएट लिगामेंट और पोस्टीरियर क्रूसिएट लिगामेंट) फीमर और टिबिया को एक साथ पकड़ते हैं और घुटने को स्थिरता प्रदान करते हैं।

बगल में, यानी घुटने के दोनों किनारों पर, रस्सी जैसे स्नायुबंधन होते हैं जिन्हें संपार्श्विक और औसत दर्जे का संपार्श्विक स्नायुबंधन और पार्श्व संपार्श्विक स्नायुबंधन कहा जाता है। इनका काम भी दोनों हड्डियों को क्रूस की तरह बाँधकर रखना होता है।

ix) हड्डियाँ कमजोर होना। Weak Bones In Hindi.

हड्डियों का कमजोर होना उम्र बढ़ने का एक सामान्य लक्षण है। यह ऑस्टियोपोरोसिस के कारण हो सकता है, जो एक ऐसी स्थिति है जहाँ उम्र के साथ हड्डियाँ अपना घनत्व और ताकत खो देती हैं।

ऑस्टियोपोरोसिस सबसे आम उम्र से सम्बंधित बीमारियों में से एक है। यह एक विकार है जो तब होता है जब हड्डी के ऊतकों की मात्रा कम हो जाती है, जिससे हड्डियों के टूटने या फ्रैक्चर होने की संभावना बढ़ जाती है।

इससे पीठ, कूल्हों और जांघों में कमजोरी या दर्द हो सकता है। यह स्थिति पुरुषों और महिलाओं को समान संख्या में प्रभावित करती है।

x) बैठने का गलत तरीका। Wrong Way To Sit In Hindi.

बैठने का गलत तरीका एक आम आसन है जो आजकल लोगों में देखा जाता है। यह पाया गया है कि इस आसन से पीठ दर्द, थकान और गर्दन और कंधों में मांसपेशियों में खिंचाव जैसी कई समस्याएँ हो सकती हैं। हो सकता है कि कुछ लोगों को इस बात की जानकारी न हो कि वे गलत तरीके से बैठे हैं।

इसलिए बेहतर होगा कि उन्हें इसके बारे में बताया जाए। इससे उन्हें अपनी बैठने की स्थिति बदलने और भविष्य में किसी भी समस्या से बचने में मदद मिलेगी। आप झुककर बैठने के बजाय सीधे बैठने की मुद्रा में भी बैठना चाह सकते हैं जो अच्छी मुद्रा को बढ़ावा देने में भी मदद करता है।

संतुलन बनाए रखने के लिए लोग अक्सर अपने हाथों के सहारे का इस्तेमाल करते हैं तो आप अच्छे मुद्रा में संतुलन बनाकर बैठने से हो सकता हैं आपको पीठ दर्द, थकान और गर्दन और कंधों में मांसपेशियों में खिंचाव जैसी कोई समस्याएँ न आये।

xi) मोटापा से परेशानी। Problems With Obesity In Hindi.

मोटापा एक चिकित्सीय स्थिति है जिसमें शरीर की अतिरिक्त चर्बी इस हद तक जमा हो जाती है कि इसका स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।

मोटापा एक प्रमुख सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्या है ऐसे कई कारक हैं जो मोटापे में योगदान करते हैं, जिनमें आनुवंशिक, पर्यावरणीय, चयापचय और व्यवहार सम्बंधी कारक शामिल हैं। वर्तमान मोटापा मुख्य रूप से आहार और जीवन शैली में बदलाव के लिए जिम्मेदार है।

लोगों को पर्याप्त शारीरिक गतिविधि भी नहीं मिल रही है, कई लोग अपना अधिकांश दिन काम पर बैठे रहते हैं या अपने बच्चों को स्कूल या गतिविधियों में ले जाते हैं। तो यह समझ आता हैं कि मोटापा से परेशानी शरीर के हर पार्ट में आता हैं और घुटने में दर्द भी उन्ही के एक अंग हैं।

xii) मांसपेशियों में बड़ा बदलाव होना। Major Changes In Muscle Mass.

मांसपेशियों में दर्द एक बहुत ही सामान्य स्थिति है जो अंगों को हिलाने में परेशानी और कठिनाई पैदा कर सकती है, जिससे आपकी दैनिक गतिविधियों पर असर पड़ता है।

चूंकि मांसपेशियों के ऊतक हमारे शरीर के लगभग सभी हिस्सों में मौजूद होते हैं, इसलिए मांसपेशियों में दर्द शरीर के किसी भी हिस्से को प्रभावित कर सकता है।

चूंकि मांसपेशियों में दर्द और दर्द का कोई एक कारण नहीं है, इसलिए खिंचाव और खिंचाव सामान्य कारण हैं। मांसपेशियों में बड़ा बदलाव होने पर भी घुटने में दर्द हो सकता है।

xiii) घुटने में फ्रैक्चर का होना। Knee Fracture In Hindi.

घुटने का फ्रैक्चर होना दर्दनाक हो सकता है। यह अक्सर गिरने, तेज चोट या एसेंट्रिक संकुचन के कारण होता है। मेनिस्कस टियर: मेनिस्कस एक रबरयुक्त कार्टिलेज है जो भारी वस्तुओं को उठाने पर फट सकता है।

ऐसा माना जाता है कि घुटना बहुत संवेदनशील होता है और अगर इसमें फ्रैक्चर हो जाए तो दर्द की स्थिति बन जाती है, इसलिए घुटने में फ्रैक्चर होने से हमेशा बचें।

xiv) घुटने पर अधिक जोर देना। Put More Emphasis On The Knee.

घुटने पर अधिक जोर देना से घटना दर्द होने लगता हैं। घुटने के जोड़ में चार हड्डियाँ होती हैं–फीमर, टिबिया, फाइबुला और जानुका (पेटेला) । घुटने में चार डिब्बे होते हैं।

बार-बार तनाव, चोट या किसी बीमारी के कारण इन कोशिकाओं के घटक क्षतिग्रस्त हो सकते हैं। इसलिए घुटने पर अधिक जोर देने से बचना चाहिए।

कुछ अन्य कारण भी हो सकते हैं जिससे आपके घुटने में दर्द को बढ़ा सकता हैं जैसे:-

पानी की कमी। Insufficiency Of Water In Hindi.

माना जाता हैं कि घुटने में दर्द का कारण पानी के कमी के कारण भी हो सकता हैं। शरीर में पानी की कमी के कारण कई लोग आसानी से डिहाइड्रेशन का शिकार हो जाते हैं।

शराब का सेवन। Alcohol Abuse In Hindi.

शराब का सेवन को भी घुटने में दर्द के कारण के रूप में माना जाता हैं। बहुत अधिक शराब पीने के दुष्प्रभावों की एक लंबी सूची है। जो हम इस लेख में नहीं बता रहे हैं परंतु शराब का सेवन भी घुटने के दर्द का कारक माना गया हैं।

फास्ट फूड का सेवन। Fast Food Consumption In Hindi.

फास्ट फूड कभी-कभी आपके पाचन में समस्या पैदा कर देता है। इनमें कार्बोहाइड्रेट की मात्रा अधिक होती है। ऐसे में यह शरीर में शुगर लेवल को भी बढ़ा सकता है। लगातार फास्ट फूड खाने से आप अधिक कैलोरी का सेवन कर सकते हैं जिससे मोटापा हो सकता है और मोटापा ही सारे बीमारियों का गढ़ माना जाता हैं।

गलत फुटवियर पहनना। Wearing The Wrong Footwear In Hindi.

घुटने दर्द में गलत फुटवियर पहनना या हाई हील्स या वजन दार फुटवियर पहनना घुटने में दर्द के सबसे बड़ा कारण बनता हैं। कुछ मामलों में, दर्द निचली हड्डी के बढ़ने और पीठ की मांसपेशियों पर अत्यधिक दबाव के कारण होता है।

बर्साइटिस में एड़ी के पिछले हिस्से में दर्द होता है। अगर गलत फुटवियर पहनने से एड़ी में दर्द हो रहा है तो फुटवियर में बदलाव जरूरी है। जिन लोगों के पैर फ्लैट होते हैं, उनमें यह समस्या अधिक होती है।

नींद की कमी। Lack Of Sleep In Hindi.

पर्याप्त निद न लेना भी बीमारी के कारण होता हैं पर्याप्त निद न लेने पर ये तो बहुत सारे बीमारी आने लगता हैं परंतु नींद की कमी से घुटने में दर्द होने लगता हैं। नींद की कमी से घुटने के दर्द पर्याप्त निद लेने पर ठीक हो जाता हैं।

इन्हे  भी  पढ़ें:- पतंजलि आयुर्वेद दवा गठिया और जोड़ों के दर्द की प्राकृतिक औषधि।

3.घुटने में आवाज और दर्द। Ghutane Mein Aavaaj aur Dard.

Knee Pain In Hindi...
Knee Pain In Hindi…

घुटने का दर्द एक आम समस्या है जो कई अलग-अलग कारणों से हो सकती है। कुछ लोगों को चोट के कारण घुटने में दर्द होता है, जबकि अन्य को गठिया या ऑस्टियोआर्थराइटिस जैसी स्थिति हो सकती है।

घुटने के दर्द का सबसे आम लक्षण घुटने के आगे या पीछे दर्द है। अन्य लक्षणों में सूजन, जकड़न और चलने में कठिनाई शामिल हो सकती है।

“knee pain” शब्द का हिन्दी में अनुवाद “घुटनो का दर्द” है। यह एक दर्द या बेचैनी को संदर्भित करता है जो घुटने के जोड़ के आसपास महसूस होता है।

4.घुटनों के दर्द का इलाज। Ghutanon Ke Dard Ka Treatment.

घुटने का दर्द चोट, गठिया, अति प्रयोग, या अन्य चिकित्सीय स्थितियों के कारण हो सकता है। यह जोड़ों के गलत संरेखण या मांसपेशियों की कमजोरी का परिणाम भी हो सकता है।

घुटने के दर्द वाले लोगों के लिए उनके लिए विभिन्न उपचार उपलब्ध हैं। इनमें दवा, जीवनशैली में बदलाव, भौतिक चिकित्सा, सर्जरी और इंजेक्शन शामिल हैं।

5.कम उम्र में घुटने में दर्द क्यों होता है। Kam Umr Mein Ghutane Mein Dard Kyon Hota Hai.

लोगों के बीच यह एक आम समस्या है। यह ज्यादातर घुटने के जोड़ में देखा जाता है। व्यायाम के दौरान या लंबे समय तक बैठे रहने के दौरान दर्द महसूस किया जा सकता है।

दर्द कई चीजों के कारण हो सकता है जैसे :- घुटने के जोड़ में चोट-घुटने के जोड़ में संक्रमण-रूमेटाइड आर्थराइटिस (आरए) -ऑस्टियोआर्थराइटिस (ओए) -उपास्थि की चोट-गाउट-पटेलर अस्थिरता घुटने के जोड़ के घुटने के दर्द का उपचार लक्षणों को कम करने, सूजन और / या दर्द को नियंत्रित करने और आगे की क्षति को रोकने पर केंद्रित होगा।

6.घुटने का दर्द उपाय आयुर्वेदिक। Ghutane Ka Dard Upaay Ayurvedic.

घुटने के दर्द के लिए घुटनो का दर्द एक प्राकृतिक उपचार भी है। यह विभिन्न जड़ी-बूटियों और प्राकृतिक अवयवों से बना है जो घुटने के दर्द से छुटकारा पाने में सहायक होते हैं। यह एक आम समस्या है जो लोग किसी भी प्रकार के व्यायाम करते समय अनुभव करते हैं।

लेकिन, यह प्राकृतिक उपाय आपको इस समस्या से बहुत जल्दी और आसानी से छुटकारा दिलाने में मदद कर सकता है। घुटनो का दर्द हरीतकी, तुलसी, गुडूची, नागकेसर, शतावरी और कई अन्य जड़ी-बूटियों से बना होता है।

इन अवयवों का मुख्य उद्देश्य घुटने के दर्द से राहत प्रदान करना है। घुटनो का दर्द जोड़ों के दर्द और सूजन के साथ-साथ जोड़ों से सम्बंधित अन्य बीमारियों जैसे गठिया आदि से राहत दिलाने में भी कारगर साबित हुआ है।

7.घुटने खराब होने के लक्षण। Ghutane Kharaab Hone Ke Lakshan.

Knee Pain In Hindi
Knee Pain In Hindi

घुटने का दर्द सबसे आम प्रकार के दर्द में से एक है जिसे लोग अनुभव करते हैं। यह विभिन्न कारकों के कारण हो सकता है और गंभीरता में भिन्न हो सकता है। घुटना फीमर, टिबिया और पटेला नामक तीन हड्डियों से बना होता है।

घुटने का जोड़ एक काज का जोड़ है जो जांघ की हड्डी को पिंडली की हड्डी से जोड़ता है। अगर इन हड्डियों में या उनके आसपास मौजूद कार्टिलेज या लिगामेंट्स में कोई समस्या है तो घुटने में दर्द हो सकता है।

घुटने के दर्द का सबसे आम कारण घुटने के जोड़ में और उसके आसपास इनमें से एक या अधिक संरचनाओं की समस्या है।

कार्टिलेज:– जब आप झुकते हैं और अपने पैर को सीधा करते हैं तो आपके घुटने में और उसके आस-पास का कार्टिलेज आपकी हड्डियों के दबाव के खिलाफ इसे कुशन करने में मदद करता है।

लिगामेंट्स :- लिगामेंट्स ऊतक के मजबूत बैंड होते हैं जो एक हड्डी को दूसरी हड्डी से जोड़ते हैं, आमतौर पर जोड़ों पर।

मांसपेशियाँ :- मांसपेशियाँ गति को नियंत्रित करने में मदद करती हैं घुटने का दर्द कोई बीमारी नहीं बल्कि किसी और समस्या का लक्षण है। यह अति प्रयोग, चोट, या एक चिकित्सा स्थिति के कारण हो सकता है।

घुटने के दर्द के सबसे आम लक्षण निम्नलिखित हैं:

  • घुटने के आगे या पीछे दर्द होना।
  • घुटने के जोड़ के बाहर या अंदर दर्द होना।
  • लंबे समय तक बैठे रहने पर दर्द, खासकर पैरों को क्रॉस करके।
  • ऐसा महसूस होना कि आपके नीकैप (पटेला) में कुछ गड़बड़ है।
  •  फिर से बेहतर महसूस करने से पहले अपने पैर को आराम देने की जरूरत है।

 8.घुटने के साइड में दर्द। Ghutane Ke Said Mein Dard.

घुटने का दर्द विभिन्न कारकों जैसे चोट, गठिया या निचले छोरों की अन्य संयुक्त समस्याओं के कारण होता है। घुटने के दर्द की गंभीरता अंतर्निहित कारण और इसके कारण होने वाली चोट या स्थिति के प्रकार पर निर्भर करती है।

घुटने के दर्द को इसकी अवधि के आधार पर नया या फिर पुराना के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है। घुटने का तीव्र दर्द आमतौर पर छह सप्ताह से कम समय तक रहता है जबकि पुराने घुटने का दर्द छह सप्ताह से अधिक समय तक रहता है।

9.महिलाओं में घुटने का दर्द। Mahilaon Mein Ghutane Ka Dard.

महिलाओं में घुटनों के दर्द के कई कारण होते हैं। यह गठिया, या चोंड्रोमलेशिया नामक स्थिति के कारण हो सकता है। गठिया एक ऐसी बीमारी है जो जोड़ों में सूजन और जकड़न का कारण बनती है और समय के साथ जोड़ों को नुकसान पहुँचा सकती है।

चोंड्रोमलेशिया एक ऐसी स्थिति है जो तब होती है जब घुटने के नीचे का कार्टिलेज बार-बार तनाव या आघात से क्षतिग्रस्त हो जाता है, जिस पर दबाव डालने पर दर्द होता है। महिलाओं में घुटनों का दर्द एक आम शिकायत है।

महिलाओं में घुटने के दर्द का सबसे आम कारण है नीकैप का स्थिति से बाहर होना। यह चोट, सर्जरी, या यहाँ तक कि सिर्फ अति प्रयोग के कारण हो सकता है।

लक्षण क्या हैं?

  • घुटने के जोड़ के अंदर या बाहर दर्द।
  • सूजन।
  • लालपन।
  • घुटने के जोड़ में गति की सीमित सीमा।
  •  संयुक्त के भीतर से पॉपिंग और क्लिक करना।
  • सीढ़ियाँ चढ़ते समय, सीढ़ियों से नीचे उतरते समय दर्द होना।

10.घुटने में सूजन और दर्द। Ghutane Mein Sujan aur Dard.

बुजुर्गों में घुटने में सूजन और दर्द असामान्य नहीं है। यह अक्सर घुटने के जोड़ में तरल पदार्थ के निर्माण के कारण होता है। द्रव सूजन, संक्रमण, या चोट से हो सकता है। घुटने की सूजन और दर्द के लिए उपचार कारण के आधार पर भिन्न होता है।

पहला कदम यह पहचानना है कि घुटने में सूजन और दर्द का कारण क्या है। यदि यह चोट के कारण होता है, तो आपको सूजन और सूजन को कम करने के लिए कुछ आराम और बर्फ करना चाहिए। घुटनो का दर्द एक ऐसी स्थिति है जिसमें घुटना सूज जाता है और दर्द होता है।

सूजन आमतौर पर घुटने की चोट, गठिया या अन्य स्वास्थ्य स्थितियों के कारण होती है। यदि यह किसी संक्रमण के कारण होता है, तो आपको अपने जोड़ या आसपास के ऊतकों को और नुकसान से बचाने के लिए अपने चिकित्सक द्वारा बताए अनुसार एंटीबायोटिक्स लेनी चाहिए।

11.घुटनों के दर्द के लिए तेल। Ghutanon Ke Dard Ke Lie Tel.

प्राकृतिक अवयवों से बने घुटने के दर्द के लिए कई तेल हैं, जानकारी प्राप्त करने के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैं। घुटने के दर्द के लिए बाज़ार में उत्पादों की कोई कमी नहीं है।

100% प्राकृतिक अवयवों से बना है और सदियों से विभिन्न प्रकार के जोड़ों के दर्द के इलाज के लिए बाज़ार में है। एक शोध के अनुसार जोड़ों के दर्द, साइटिका, घुटने के दर्द पर थोड़ा-सा अरंडी का तेल गर्म करके सीधे घुटने के जोड़ पर लगाने से काफी आराम मिलता है। नहीं तो यहाँ से आयुर्वेदिक तेल की जांच कर बाज़ार से कई तेल भी मंगवाए जा सकते हैं।

FAQ:

Question -1: घुटनों में बहुत ज्यादा दर्द हो तो क्या करें?

Answer – 1: घुटने का दर्द एक सामान्य और काफी दुर्बल करने वाली स्थिति है। यह कई अलग-अलग कारकों के कारण हो सकता है, जैसे अति प्रयोग, चोट, गठिया, या किसी अन्य प्रकार की सूजन।

घुटने के दर्द से राहत पाने के लिए पहला कदम समस्या के कारण की पहचान करना और उसके अनुसार उसका समाधान करना है। विभिन्न प्रकार के घुटने के दर्द के लिए कई उपचार उपलब्ध हैं।

Question -2:  घुटने के अंदरूनी हिस्से में दर्द क्यों होता है?

Answer – 2: गठिया घुटने की चोट, उम्र बढ़ने, मोटापा, कमजोर हड्डियों, मधुमेह और शरीर में यूरिक एसिड के बढ़ने के कारण होता है। अगर आपके भी शरीर में ये सभी समस्याएँ हैं तो आपको गठिया होने की बहुत अधिक संभावना है। घुटने के अंदरूनी हिस्से में दर्द होने के कई कारण होते हैं। इनमें से कुछ कारण इस प्रकार हैं:

  • -श्लेष झिल्ली की सूजन (सिनोवाइटिस)
  • घुटने में एक या अधिक स्नायुबंधन में मोच।
  • घुटने के आसपास की एक या अधिक मांसपेशियों में मोच या फटना।
  • गठिया और अन्य रोग जो जोड़ों को प्रभावित करते हैं।
  • -पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस और गठिया के साथ अन्य समस्याएँ।

Question -3: घुटने के दर्द की सबसे अच्छी दवा कौन-सी है?

Answer – 3: पहला जवाब यह है कि घुटने के दर्द का कोई खास इलाज नहीं है। यह उत्तर इस तथ्य से आता है कि घुटने के दर्द के कई कारण होते हैं और प्रत्येक को एक अलग प्रकार के उपचार की आवश्यकता होती है।

दूसरा उत्तर यह है कि यह आपके घुटने के दर्द के प्रकार पर निर्भर करता है। उदाहरण के लिए, यदि आपके घुटनों में गठिया है, तो आपको सूजन को कम करने के लिए इबुप्रोफेन लेना चाहिए।

यदि आपके घुटने का दर्द किसी चोट के कारण है, तो आपको एक डॉक्टर या भौतिक चिकित्सक को देखना चाहिए जो आपकी चोट के लिए क्रमशः दवाएँ और व्यायाम लिखेंगे।

Question – 4: किसकी कमी से घुटनों में दर्द होता है?

Answer – 4: यह तब हो सकता है जब आपके जोड़ों में हड्डियों के सिरों की रक्षा करने वाला कार्टिलेज खराब होने लगता है। जब आप उन्हें हिलाते हैं तो यह कार्टिलेज आपके जोड़ों को कुशन और चिकनाई देने में मदद करता है। जब बहुत कम कार्टिलेज बचता है, तो हड्डी आपके जोड़ के अंदर की हड्डी से रगड़ने लगती है। इस रगड़ से आपके जोड़ में सूजन और दर्द होता है।

Question -5: घुटने की एक्सरसाइज कैसे करें?

Answer – 5: घुटने के व्यायाम आपके घुटने के जोड़ों को स्वस्थ रखने और घुटने की किसी भी समस्या को रोकने का एक अच्छा तरीका है। हालांकि, कई अलग-अलग प्रकार के व्यायाम हैं जो आप अपने घुटनों के साथ कर सकते हैं।

घुटनों के लिए व्यायाम:

  • -फर्श पर घुटना टेकना घुटनों के लिए एक सामान्य व्यायाम है। व्यायाम दोनों घुटनों पर या फर्श पर एक घुटने के साथ और आपके सामने एक पैर उठाकर किया जा सकता है। ऐसी भी विविधताएँ हैं जहाँ आपको अपने हाथों को अपने सिर के पीछे रखना होता है या घुटने टेकते समय एक पैर को अपने सामने फैलाना होता है। यदि आपके घुटने में चोट या संयुक्त क्षेत्र में दर्द है तो इस स्थिति की अनुशंसा नहीं की जाती है।
  • -घुटनों के लिए एक अन्य व्यायाम को “एड़ी स्लाइड” कहा जाता है। इसमें एक कुर्सी पर बैठना, खड़े होना और फिर कमर को झुकाए बिना अपने आप को अपनी एड़ी पर वापस नीचे करना और फिर अपनी एड़ी पर बैठने के लिए खुद को फिर से ऊपर उठाना शामिल है।

Question – 6: घुटनों में कट-कट की आवाज आए तो क्या करें?

Answer – 6: 10 से 15 मिनट तक घुटने पर आइस पैक लगाकर इस समस्या को दूर किया जा सकता है। आप घाव पर कुछ मॉइस्चराइजर या क्रीम भी लगा सकते हैं। यदि यह मदद नहीं करता है, तो आपको डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए।

Question -7: घुटने के दर्द के लिए क्या खाना चाहिए?

Answer – 7: घुटने का दर्द सिर्फ घुटने तक ही सीमित नहीं है, यह कूल्हे, जांघ और पीठ के निचले हिस्से में भी महसूस किया जा सकता है। घुटने के दर्द के मुख्य कारण गठिया, पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस, गाउट, मेनिस्कस आँसू या टूटना और लिगामेंट की चोटें हैं।

कुछ खाद्य पदार्थ आपके दर्द को दूर करने में मदद कर सकते हैं। इनमें सेब और नाशपाती जैसे फल के साथ-साथ गाजर जैसी सब्जियाँ और पालक जैसी पत्तेदार सब्जियाँ शामिल हैं। ओमेगा-3 से भरपूर खाद्य पदार्थ जैसे मछली के तेल भी सूजन को कम करने में मदद कर सकते हैं।

Question -8: घुटने के अंदरूनी हिस्से में दर्द क्यों होता है?

Answer – 8: जब घुटनों का दर्द लंबे समय तक रहता है, तो गठिया होने की संभावना बढ़ जाती है। गठिया घुटने में चोट, बढ़ती उम्र, मोटापे, कमजोर हड्डियों, डायबिटीज और शरीर में यूरिक एसिड के बढ़ जाने के कारण होता है। अगर आपके शरीर में भी यह सब समस्याएँ है तो बहुत संभावना है कि आपको गठिया हो सकता हैं।

Question -9: घुटनो की ग्रीस बढ़ाने के लिए क्या करें।

Answer – 9: घुटनों की ग्रीस को ठीक करने के लिए सेहतमंद डाइट लेना बहुत जरूरी है। आपको इस समस्या में विटामिन और मिनिरल से भरपूर डाइट लेनी चाहिए. हरी सब्जियों का सेवन ज्यादा से ज्यादा करना शुरू कर देना चाहिए. आप अपने खानपान में प्याज, लहसुन, ग्रीन टी, जामुन और हल्दी को शामिल कर सकते हैं।

Question -10: घुटनों के दर्द में कौन-सी सिकाई कब करें!

Answer – 10: अगर घुटनों में या शरीर के किसी हिस्से में दर्द होता है तो उन्हें बिना जाने ही दर्द होने लगता है। याद रखें कि अगर घुटने में बहुत दर्द हो तो आइसक्रीम का सेवन करें। यदि घाव की चोट पुरानी और सहनीय है, तो गर्म पानी के कंप्रेस ठीक हैं।

यह एक जरूरी जानकारी है। लोग घुटने के प्रशिक्षण के बारे में नहीं जानते हैं। अगर घुटनों में या शरीर के किसी हिस्से में दर्द होता है तो उन्हें बिना जाने ही दर्द होने लगता है। याद रखें कि अगर घुटने में बहुत दर्द हो तो आइसक्रीम का सेवन करें।

यदि घाव की चोट पुरानी और सहनीय है, तो गर्म पानी के कंप्रेस ठीक हैं। अगर गठिया है तो चिकित्सकीय सलाह से दी गई दवा ही राहत देने का एक मात्र उपाय है, लेकिन समस्या यह है कि अधिक दवाओं के सेवन से शरीर को नुकसान पहुँचता है। दवाओं का अत्यधिक उपयोग किडनी और लीवर को नुकसान पहुँचा सकता है।

याद रखें कि अगर घुटने में चोट है, कोई अंदरूनी घाव है जिससे दर्द हो रहा है तो उस समय आइसिंग का इस्तेमाल करें और अगर दर्द पुराना है तो गर्म या गुनगुना पानी लगाएँ। क्योंकि अगर घुटने का दर्द एडवांस स्टेज पर पहुँच जाता है तो घुटने की सर्जरी के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं है।  

Mamta Yadav
Mamta Yadav
Articles: 18

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *