Physical Address

Kotra road Raigharh (C.G.) 496001

हाथियों के बारे में बेहतरीन तथ्य जिसे अवश्य जानना चाहिए। About Elephant In Hindi.   

About Elephant In Hindi
About Elephant In Hindi
Contents Hide

भारत में धार्मिक एवं सांस्कृतिक महत्व के रूप में जाने जाने वाले अबाउट द एलीफेंट इन हिंदी की रोचक जानकारी।

मेरे प्यारे दोस्तों, आज हम दुनिया के सबसे भारीभरकम जानवर यानी हाथी के बारे में जानेंगे की कोशिश करेगें। हाथी को इंग्लिश में Elephant कहते हैं। About  Elephant In Hindi जो हिन्दी में लिखा एक बेहतरीन आर्टिकल हैं जो आपको एलीफेंट के बारे में सम्पूर्ण जानकारी प्रदान करेगा।

हाथी के बारे में सभी पूछते हैं हाथी कहाँ रहता है, क्या खाता है, क्या मनुष्य उनके दोस्त हैं या दुश्मन होते हैं। हाथी को जितना सम्मान मिलाता हैं इतना और किसी भी जानवर को मिलता हैं कि नहीं।

हाथी तो बच्चों के चहेते होते हैं। इसलिए बीच में एक बेहतरीन विडियो हाथी के बारे हैं आप जरूर देखे। हाथी भारत नहीं अपितु विश्व में प्रतिष्ठित प्राणी हैं परंतु भारत के संस्कृति में एक विशेष स्थान है।

आज भी हाथी को ताकत और शक्ति के चिह्न के रूप में देखा जाता हैं। मैंने ऊपर भी आपको बताया था। हाथी का मतलब हिन्दी में हाथी ही होता हैं। हाथी को बोझ या भार को उठा ले जाने वाला जैसा बताया गया हैं।

परंतु भारत में धार्मिक और सांस्कृतिक महत्त्व के रूप में जाना जाता हैं। हाथी को ताकत और बुद्धि के प्रतीक माना गया हैं। जब इसे मानव द्वारा अच्छे से ट्रेनिग दे दिया जाता हैं तो हाथी हमेशा वफादारी दिखने में सबसे आगे रहता हैं।

इन्हे  भी  पढ़ें:-  हिरण के बारे में पूर्ण जानकारी जो आपको जानना चाहिए.

1.हाथी पर निबंध हिन्दी में 10 लाइन। About Elephant In Hindi 10 Lines.

About Elephant In Hindi 10 Lines.
Image source=Google। image by-flickr.com/photos.

i) हाथी इस धरती पर सबसे भारी जानवर के लिए जाना जाता है। यह दुनिया का सबसे अलग प्राणी है। हाथी अपने भारी शरीर और अपनी लंबी सूंड के साथ-साथ अपने लंबे दांतों के लिए जाने जाते हैं।

ii) हाथी के कान इतने बड़े होते हैं कि यदि वह दोनों कान हिला दे तो तेज हवा चलने लगती है। हाथी के शरीर में बहुत गर्मी होती है, इसलिए हाथी अपने कानों को हिलाकर गर्मी को दूर कर देता है।

अगर आपने कभी हाथी को अपने लंबे कानों को हिलाते हुए देखा है तो समझ जाइए कि यह गर्मी को दूर कर रहा है और एक छोटी-सी पूंछ होती है जो कीड़े-मकोड़ों से दूर भागने के काम आता है।

iii) हाथी की सूंड बहुत मजबूत होती हैं इस कारण वह अपने सूंड से नहाता भी हैं और खाना तोड़कर खाता भी है। आप यह भी जान ले कि हाथी की सूंड के मांसपेशिया बहुत मजबूत होती है। इसलिए इसकी सूंड बहुत ही उपयोगी साबित होता है।

iv) जंगल का सबसे बड़ा जानवर होते हुए भी हाथी मांसाहारी नहीं होते, यह उनकी खास बात है, वे शुद्ध शाकाहारी जानवर होते हैं, वे अपने भोजन में छोटी-छोटी टहनियाँ, पत्ते और पेड़ों के फल खाते हैं। पालतू हाथी केले और गन्ना भी खाते हैं।

vi) आपने फिल्म या धारावाहिक में देखा होगा कि मनुष्य किस प्रकार से इस भारीभरकम प्राणी को अपने उपयोग के लिए पालतू बनाकर उनसे उपयोग लिया जा रहा हैं। हाथी कितना मानव प्रेमी होते है जो उनके वस में रहना पसंद करते हैं।

vii) यह सच है कि अतीत में हाथियों का इस्तेमाल सेना में किया जाता था, भले ही युग कोई भी हो। युद्ध में यह जानवर किसी हथियार से कम नहीं था। राजा महाराजा अपनी सेना के बेड़े में घोड़ों के साथ-साथ हाथी भी रखते थे।

viii) मैं आपको हाथी की दो प्रजातियों के बारे में बता रहा हूँ, अगर आप इनकी और प्रजातियों के बारे में जानते हैं तो कमेंट करके बताएँ। तो एक एशिया का हाथी और दूसरा अफ्रीका में रहने वाला हाथी।

ix) हाथी एक अफ्रीका में पाया जाता है, शेष एशिया का हाथी भारत, श्रीलंका, बर्मा जैसे देशों में पाया जाता है। आपको यह भी पता होना चाहिए कि थाईलैंड में सफेद हाथी भी पाया जाता है।

हाथी जंगल में रहता है यह पानी में भी तैर सकता है। आप सोच रहे होंगे कि इतना भारी शरीर पानी में कैसे तैरता होगा, तो यह सच है कि हाथी पानी में तैर लेते हैं।

x) हाथी को उनकी बुद्धिमत्ता के लिए जाना जाता है, वे मनुष्यों के मित्र हैं, इस वजह से हाथी सदियों से मानव जीवन के करीब रहे हैं और मनुष्यों के साथ-साथ वे कई संस्कृतियों और धर्मों में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

xi) भारत में, हाथियों को पवित्र माना जाता है क्योंकि हाथियों को भगवान गणेश की सूड से जोड़ा जाता है और इस वजह से, हाथियों को उनकी पौराणिक कथाओं के आधार पर हिंदू मान्यताओं के आधार पर साहित्य और कला में दर्शाया गया है।

xii) यह भी सच है कि हाथियों को इस धरती पर सबसे राजसी प्राणियों में से एक माना गया है और यह भी सच है कि सदियों से कई संस्कृतियों द्वारा उनका सम्मान किया जाता रहा है।

xiii) क्या आपने कभी किसी हाथी को देखकर उसकी लंबाई के बारे में जानना चाहा है? आपको बता दें कि एक हाथी की लंबाई 8 फीट से भी ज्यादा होती है। वह लगभग 50 से 70 साल तक से भी ज्यादा जीवित रहता है,हालांकि सबसे पुराना रिकॉर्ड किया गया वह हाथी लगभग 82 साल का हैं यह विकिपीडिया से लिया गया स्रोत हैं।  

इन्हे  भी  पढ़ें:- कोयल पक्षी के बारे में  रोचक तथ्य और महत्वपूर्ण जानकारी।

2.हाथी के बारे में पाँच वाक्य। About Elephant In Hindi 5 Points.

About Elephant In Hindi.
About Elephant In Hindi.

i) हाथी एक विशाल स्थलीय प्राणी है। यह सबसे बड़ा भूमि स्तनपायी है।

ii) इनकी दो प्रजातियाँ होती हैं, ये एलिफेंटिडे परिवार की हैं और प्रोबोस्किडिया जीनस का प्राणी है। लेकिन अब उनकी केवल दो ही प्रजातियाँ जीवित हैं, वे दो प्रजातियाँ हैं-अफ्रीकी मैदानी हाथी और भारतीय या एशियाई हाथी।

iii) हाथी का गर्भ काल 22 महीने का होता है, जो जमीनी जानवरों में सबसे लंबा गर्भ काल रिकार्ड किया गया है।

iv) जन्म के समय हाथी के बछड़े का वजन लगभग 104 किलो होता है यह थोड़ा बहुत कम या अधिक हो सकता हैं।

v) एशियाई सभ्यताओं में हाथियों को ज्ञान का प्रतीक माना गया है और वे अपनी स्मृति और बुद्धिमत्ता के लिए प्रसिद्ध हैं।

vi) वे सदियों से भारतीयों द्वारा पूजनीय रहे हैं हाथी को अक्सर भारतीय समाज शक्ति और ज्ञान के प्रतीक के रूप में मानता है।

इन्हे  भी  पढ़ें:-  दुनिया के सबसे खूबसूरत पक्षियों में से एक किंगफिशर पक्षी.

3.हाथी पर निबंध For Class 1. Essay On Elephant For Class 1.

हाथी शुद्ध शाकाहारी होने के साथ-साथ बहुत ही सामाजिक प्राणी होते हैं और वे अविश्वसनीय रूप से बुद्धिमान भी होते हैं। वह पौधे के विभिन्न भागों को काट-फाड़ सकें इसके लिए उनके बड़े सूंड होता हैं वह अपने सूंड से खाना फाड़ता है और फिर उस निवाले को अपने मुँह में पहुँचाता है।

यदि पेड़ में भोजन उसकी सूंड की पहुँच से बाहर है, तो हाथी अपनी सूंड को पेड़ के तने या शाखा में लपेटता है और जोर से हिलाता है जिससे फल आदि नीचे टपक जाते हैं या कभी-कभी पूरे पेड़ को उखाड़ देते हैं।

हाथी पानी पीने के लिए भी सूंड का प्रयोग करता है। हाथी पहले एक बार में करीब 14 लीटर पानी अपनी सूंड में खींच लेता है और फिर उसे अपने मुंह में डाल लेता है। हाथी नहाने के लिए भी इसी तरीके का इस्तेमाल करते हैं।

हाथी नहाने के बाद अपनी सूंड से अपने गीले शरीर पर मिट्टी छिड़कता है, जो सूखकर उसकी त्वचा पर पपड़ी बना देती है और उसे तेज धूप और परजीवियों से बचाती है।

4.हाथी पर निबंध For Class 4. Essay On Elephant For Class 4.

Essay On Elephant For Class 4.
Image source=Google। image by-flickr.com/photos.

एशियाई हाथियों की आबादी का बड़ा हिस्सा भारतीय हाथियों का है। दुनिया भर में एशियाई हाथियों की संख्या-जिन्हें भारतीय हाथी भी कहा जाता है।

एशियाई हाथी की कई उप-प्रजातियों की पहचान मॉर्फोमेट्रिक और मौलिक्यूलर डाटा प्रणालियों द्वारा पहचानी गई हैं। हाथी पृथ्वी पर सबसे बड़े प्राणी में से एक है। इसे धरती का सबसे ताकतवर प्राणी भी माना भी और कहा भी जाता है।

आमतौर पर, यह एक जंगली जानवर है, हालांकि यह उचित प्रशिक्षण के बाद मनुष्यों के साथ एक पालतू जानवर के रूप में घर पर रखते है। हाथी हमेशा से मानवता के लिए बहुत उपयोगी प्राणी के रूप में देखा गया हैं और जाना गया है।

इसका रंग आमतौर पर ग्रे होता है। इसके चार पैर विशाल खंभे की तरह और दो बड़े कान पंखों की तरह दिखते हैं। इसकी आंखें शरीर की तुलना में बहुत छोटी होती हैं। इसकी एक लंबी सूंड और एक छोटी पूंछ होती है।

यह सूई जैसी छोटी से छोटी वस्तु और भारी से भारी पेड़ या वजन को अपनी सूंड से उठा सकता है। इसकी सूंड के दोनों तरफ लंबे सफेद दांत होते हैं।

5.हाथी पर निबंध For Class 5. Essay On Elephant For Class 5.

हाथी पृथ्वी पर सबसे बड़े मौजूद प्राणियों में से एक है। सामान्य: जंगल में रहता है, हालांकि उचित प्रशिक्षण के बाद इसे वश में किया जा सकता है। वह शक्तिशाली, बुद्धिमान और सुंदर प्राणियों में से एक है।

इसकी ऊंचाई आठ फीट से भी ज्यादा होती है। इसका बड़ा और विशाल शरीर मजबूत खंभे जैसे पैरों के सहारा से इधर उधर चलता हैं। पेड़-पौधों की पत्तियों, फलों या पेड़ों की पत्तियों को खाने के लिए यह अपनी लंबी सूंड का मदद लेता है।

सूंड हाथी की सामाजिक गतिविधियों में भी बहुत महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाती है। रिश्तेदार एक-दूसरे को सूंड लपेटकर अभिवादन करेंगे, जैसे मनुष्य हाथ जोड़कर करते हैं।

वे इसका प्रयोग कुश्ती में खेलते समय बच्चे के सम्बन्ध में तथा अन्य क्रियाओं में भी करते हैं। एक उठा हुआ ट्रंक एक चेतावनी या खतरा हो सकता है, जबकि एक निचला ट्रंक समर्पण का संकेत हो सकता है।

एक हाथी अपने दुश्मन को अपनी सूंड से लपेट कर फेंक सकता है। यह भी माना जाता हैं कि हाथियों को एशियाई सभ्यताओं में ज्ञान का प्रतीक माना जाता है और वे अपनी स्मृति और बुद्धिमत्ता के लिए प्रसिद्ध हैं।

हाथी आमतौर पर 50 से 70 साल तक जीवित रहते हैं, हालांकि सबसे पुराना दर्ज हाथी 82 साल का था। हाथी का गर्भ काल 22 महीने का होता है, जो जमीनी जानवरों में सबसे लंबा होता है। जन्म के समय हाथी के बछड़े का वजन करीब 104 किलो होता है। लेकिन कई बार यह वजन कुछ कम या ज्यादा भी हो सकता है।

6.हाथी का प्रजनन के रोचक जानकारी। Interesting Information About Elephant Breeding.

About Elephant In Hindi.
About Elephant In Hindi.

हाथी दुनिया के सबसे आकर्षक जीवों में से एक हैं। उनके पास एक जटिल सामाजिक संरचना है और वे अत्यधिक बुद्धिमान प्राणी हैं। इनके गर्भकाल की अवधि लगभग 680 दिन यानी 22 महीने के करीब होती है, जो दुनिया के किसी भी प्राणी के लिए सबसे लंबी अवधि है। ऐसा माना जाता है कि एक लंबी गर्भावस्था अवधि के बाद, हाथी पैदा होते ही एक उन्नत मस्तिष्क वाले बच्चे को जन्म देती हैं।

इस बात पर भी शोध किया गया था कि इतनी लंबी गर्भधारण अवधि के पीछे जीव विज्ञान को समझने में क्या देरी हुई और आखिरकार उन्नत अल्ट्रासाउंड तकनीकों के आगमन के साथ, पशु चिकित्सा वैज्ञानिकों को एक उपकरण मिला जिससे उन्हें हाथियों की गर्भावस्था के बारे में विस्तार से जानने की अनुमति मिली।

7. हाथी के शारीरिक लक्षण की रोचक जानकारी। Interesting Information About The Physical Characteristics of Elephant.

हम आगे हाथी के शारीरिक लक्षणों, उनके बनावट और पूरे शरीर के बारे में जानकारी साझा करेंगे, आप हाथी के बारे में बहुत अच्छी तरह से इसे पढ़ने के बाद जान सकते हैं।

i) शारीरिक बनावट। Physical Appearance.

एशियाई हाथी हल्के भूरे रंग के होते हैं, केवल कान और सूंड कम रंजकता दिखाते हैं।

बड़े नर आमतौर पर 5, 000 किलोग्राम वजन के होते हैं लेकिन श्रीलंकाई हाथियों के समान ऊंचाई के होते हैं। सुमात्रन हाथी में अन्य एशियाई हाथियों की तुलना में कम रंजकता होती है और केवल कानों पर गुलाबी धब्बे होते हैं।

ii) हाथी के सूंड। Elephant Trunk.

हाथी की सूंड इनके लिए इतना महत्त्वपूर्ण अंग है, इनका प्रयोग कर वह भोजन से लेकर अपनी आवश्यकता के सभी कार्य करते हैं।

यह हाथी की नाक और ऊपरी होंठ का जंक्शन है और इसकी लंबाई के कारण यह हाथी का सबसे महत्त्वपूर्ण और कुशल अंग बन गया है। अफ़्रीकी हाथियों की सूंड के अंत में दो उँगलियों के समान उभार होते हैं, जबकि एशियाई हाथियों के पास केवल एक ही होता है।

एक ओर तो हाथी की सूंड इतनी संवेदनशील होती है कि वह घास के एक तिनके को भी उठा सकता है और दूसरी ओर वह इतना मजबूत होता है कि वह एक पेड़ की शाखाओं को भी उखाड़ सकता है।

iii) हाथी के दाँत। Elephant Teeth.

हाथी के दाँत उनके अभिन्न अंग के हिस्सा हैं। हाथी के पूरे जीवन भर दांत बढ़ते रहते हैं। एक वयस्क नर का हाथी दांत लगभग एक वर्ष में 18 सेमी की दर से बढ़ता रहता है।

जिस तरह मनुष्य या तो दाएँ या बाएँ दाँत से काम करता है, उसी तरह हाथी आमतौर पर या तो दाएँ या बाएँ दांत का इस्तेमाल करते हैं। मुख्य दाँत आमतौर पर थोड़ा छोटा होता है और उस दाँत के भारी उपयोग के कारण थोड़ा गोल किनारा होता है।

नर और मादा अफ्रीकी हाथियों के लंबे दांत होते हैं, जो 3 मीटर तक लंबे हो सकते हैं और वयस्कों में इसका वजन 45 किलोग्राम तक होता है। एशियाई हाथियों में, केवल नर के लंबे दाँत होते हैं।

मादाएँ हाथी के बहुत छोटी होती हैं या आमतौर पर दांत होती नहीं हैं। एशियाई पुरुषों के दांत अफ्रीकी पुरुषों जितने लंबे हो सकते हैं लेकिन वे बहुत पतले और हल्के होते हैं।

आज तक, अधिकतम वजन 39 किलो आंका गया है। हाथी दांत में नक्काशी आसानी से हो जाती है, इसलिए कलाकारों ने इसे महत्त्व दिया, जिससे दुनिया में बड़ी संख्या में हाथी नष्ट हो गए।

iv) हाथी के त्वचा। Elephant Skin.

हाथियों को बोलचाल की भाषा में हाथी कहा जाता है जिसका अर्थ है मोटी चमड़ी वाले जानवर। एक हाथी की त्वचा 2.5 सेंटीमीटर तक मोटी होती है। इसके शरीर का अधिकांश भाग अत्यंत कठोर होता है।

हालांकि, मुंह और भीतरी कान के आसपास की त्वचा बहुत पतली होती है। आमतौर पर, एक एशियाई हाथी की त्वचा पर उसके अफ्रीकी रिश्तेदार की तुलना में अधिक बाल होते हैं। यह अंतर युवा हाथी में अधिक दिखाई देता है।

एशियाई शावकों की त्वचा आमतौर पर भूरे रंग के बालों से ढकी होती है। उम्र के साथ, बालों का रंग कम होता जाता है, लेकिन यह हमेशा सिर और पूंछ में रहता है।

हाथी भूरे रंग के होते हैं, लेकिन अफ्रीकी हाथी अलग-अलग रंग की मिट्टी में लोटने से लाल या भूरे रंग के दिखाई देते हैं। गीली मिट्टी में लोटना हाथी समाज की दिनचर्या का अभिन्न अंग है।

हाथी की त्वचा सख्त होते हुए भी संवेदनशील होती है। यदि वह नियमित रूप से मिट्टी का स्नान नहीं करता है तो उसकी त्वचा को जलने, कीड़े के काटने और नमी के नुकसान से काफी नुकसान हो सकता है।

मिट्टी में लोटने से हाथी की त्वचा को शरीर के तापमान को नियंत्रित करने में मदद मिलती है। हाथियों को अपनी त्वचा के माध्यम से शरीर की गर्मी को दूर करने में कठिनाई होती है, क्योंकि त्वचा शरीर के अनुपात में बहुत छोटी होती है।

v) हाथी के पैर। Elephant’ s Feet.

हाथी के पैरों की बनावट मोटे स्तम्भों या खंभों के समान होती है। हाथियों को अपने सीधे पैरों और बड़े गद्देदार पैरों के कारण खड़े होने के लिए कम मांसपेशियों की शक्ति की आवश्यकता होती है।

इस वजह से हाथी बिना थके लंबे समय तक खड़े रह सकते हैं। वास्तव में, अफ्रीकी हाथियों को शायद ही कभी लेटा हुआ देखा जाता है, आमतौर पर केवल बीमार या घायल होने पर।

इसके विपरीत, एशियाई हाथी अक्सर लेटना पसंद करते हैं। हाथी के पैर लगभग गोल होते हैं। अफ्रीकी हाथियों के प्रत्येक पिछले पैर में तीन और प्रत्येक अगले पैर में चार नाखून होते हैं।

भारतीय हाथियों के प्रत्येक पिछले पैर में चार और अगले पैर में पांच नाखून होते हैं। पैर की हड्डियों के नीचे एक सख्त, श्लेष पदार्थ होता है जो कुशन या शॉकर का काम करता है।

हाथी के वजन से पैर सूज जाता है, लेकिन जब वजन हटा दिया जाता है तो वह पहले जैसा हो जाता है। इसी वजह से गीली मिट्टी में गहरे दबे होने के बावजूद हाथी अपने पैर आसानी से खींच लेता है।

vi) हाथी के कान। Elephant Ears.

हाथी अपने विशाल शरीर की गर्मी को कानों के द्वारा बाहर निकाल लेता है। यह काम हाथियों के कानों में मौजूद कोशिकाएँ बखूबी करती हैं। गर्मी ही नहीं, हाथी के कान उसके शरीर के रक्त संचार को भी नियंत्रित करते हैं।

अफ्रीका में अत्यधिक गर्मी के कारण वहाँ के हाथियों के कान बहुत बड़े होते हैं। हाथी के कान बड़े-बड़े होते हैं, हाथी दिन भर कान हिलाता रहता है। लेकिन हाथी के कान का हिलना स्वाभाविक नहीं है बल्कि इसके पीछे एक वैज्ञानिक कारण होता है।

हाथी अपने विशाल शरीर की गर्मी को कानों के द्वारा बाहर निकाल लेता है। यह काम हाथियों के कानों में मौजूद कोशिकाएँ बखूबी करती हैं।

निष्कर्ष।

आज भी कई हाथियों को पालतू जानवर के रूप में प्रशिक्षित किया जा रहा है। लेकिन हाथी को पकड़ना बहुत ही मुश्किल का काम है। हाथी जंगल में अपना क्षेत्र बनाते हैं और झुंड में रहना पसंद करते हैं।

आमतौर पर हाथियों को पकड़ने के लिए बड़े जालों का इस्तेमाल किया जाता है। वर्तमान समय में इनका उपयोग सर्कस में दिखाने के लिए भी किया जाता है। इनकी मदद से कई हैरतअंगेज करतब दिखाये जाते हैं।

लेकिन इसके साथ ही कई जगहों पर बहुत सारे अत्याचार भी किये जाते हैं। वैसे तो हाथी शांत रहने वाला जानवर है लेकिन जब इसे परेशान किया जाता है या हमला किया जाता है तो यह बहुत खतरनाक हो जाता है।

वनों की कटाई के कारण जंगलों में भोजन की कमी के कारण वे गांवों या रिहायशी इलाकों में चले जाते हैं। हाथी को एक बुद्धिमान प्राणी के रूप में जाना जाता है और इसके साथ ही यह मनुष्य को बहुत से लाभ भी प्रदान करता है।

हाथी पर निबंध 10 लाइन हिंदी में वीडियो.

Learn Essay Speech.

इन्हे  भी  पढ़ें:-  दुनिया के सबसे खूबसूरत पक्षियों में से एक किंगफिशर पक्षी.

इन्हे  भी  पढ़ें:- कोयल पक्षी के बारे में  रोचक तथ्य और महत्वपूर्ण जानकारी।

Babu Lal
Babu Lal
Articles: 7

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *